नई दिल्ली : विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को कहा कि फरवरी में पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी कैम्प पर किए गए हवाई हमले के दौरान किसी पाकिस्तानी सैनिक या उसके नागरिक की मौत नहीं हुई थी।

बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सुषमा स्वराज ने कहा कि भारतीय सेना को ऑपरेशन के लिए खुली छूट दी गई दी और कहा गया था कि इस दौरान किसी भी पाकिस्तानी नागरिक की मौत नहीं होनी चाहिए, यहां तक की किसी पाकिस्तानी सैनिक को भी नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए।

बीजेपी की सीनियर नेता ने कहा- “हमारे सैनिकों से यह कहा गया था कि वह जैश-ए-मोहम्मद को लक्ष्य बनाए, जो पुलवामा आतंकी हमले के लिए कसूरवार है और सेना ने वैसा ही किया। आतंकी कैंप को तबाह कर वापस लौट आई।”

गौरतलब है कि पुलवामा में 14 फरवरी को आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 सीआरपीएफ जवानों के शहीद होने के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी शिविर पर 26 फरवरी को हमला किया था।सुषमा ने कहा कि यह हवाई हमला आत्म सुरक्षा के लिए किया गया था। उन्होंने कहा- “जब हमने यह हवाई हमले किए, हमने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को यह बता दिया था कि हम ये आत्म सुरक्षा के लिए कदम उठाने जा रहे हैं।” उन्होंने कहा कि पूरे अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने हवाई हमले को लेकर भारत का समर्थन किया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पक्ष में जोरदार वकालत करते हुए विदेश मंत्री ने कहा कि वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक ऐसा नेता के तौर पर उभरे हैं, जिन्होंने दुनिया के लिए एजेंडा सेट किया।

2008 मुंबई हमले को लेकर सुषमा स्वराज ने कहा कि उस समय 14 देशों के 40 लोगों की मौत होने के बावजूद तत्कालीन यूपीए की सरकार पाकिस्तान को अलग-थलग करने में कामयाब नहीं हो पाई थी।