मुंबईः क्रिकेट मैदान पर आतंकवाद पर भारत द्वारा दी गई संदेश के खिलाफ पाकिस्तान की‌ शिकायत को अब आईसीसी (इंटरनेशनल क्रिकेटर काउंसिल) ने ठुकरा दिया है।

पुलवामा हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों को श्रद्धांजली देने के लिए भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार को रांची में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के तीसरे वनडे मुकाबले में आर्मी कैप पहनकर मैदान में उतरी थी। इससे दुनिया भर में पाकिस्तान की फिर एक बार किरकिरी हुई जिससे वह तिलमिला गया और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) तक पहुंच गया। उसने भारत के इस फैसले पर नाराजगी जताते हुए आईसीसी को भारत के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही थी। लेकिन अब आईसीसी ने पाकिस्तान के प्रस्ताव को खारिज करते हुए साफ कर दिया है कि बीसीसीआई ने कैप पहनकर खेलने के लिए उससे अनुमति ले ली थी।
मैच की फीस दी शहीदों के परिवार को
शुक्रवार को रांची में भारतीय टीम ने पुलवामा में आतंकवादी आत्मघाती हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 44 जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए सैनिक टोपी पहनी थी। इसके अलावा टीम के खिलाड़ियों ने मैच की फीस भी शहीदों के परिवारों की मदद के लिए सहयोग राशि के रूप में दी।

पाकिस्‍तान ने लगाया आरोप
पाकिस्तान ने आईसीसी से भारतीय खिलाड़ियों के ऐसा करने पर कोहली और उनकी टीम पर खेल का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया था। आईसीसी के एक सूत्र ने शनिवार को बताया, ‘भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने आईसीसी के सीईओ डेव रिचर्डसन से गुरुवार को इसकी अनुमति ली थी। बीसीसीआई ने आईसीसी से पूछा था कि शहीद सैनिकों की याद में क्या भारतीय खिलाड़ी आर्मी कैप पहनकर मैदान पर उतर सकते हैं?’

ऑस्ट्रेलिया और अफ्रिकी टीम ने भी कुछ किया था ऐसा
गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलियाई टीम साल में पहला टेस्ट ‘पिंक टेस्ट’ के रूप में खेलती है। यह मैच ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरूकता फैलाने को समर्पित किया जाता है। इसी तरह साउथ अफ्रीकी टीम भी साल में एक वनडे मैच पिंक ड्रेस में खेलती है। इन दोनों टीमों की तरह ही अब भारतीय टीम भी हर साल एक मैच आर्मी टोपी के साथ ही खेलेगी।